close
Business
close
Stock Market

Demat and Trading अकाउंट की पूरी जानकारी

Created on 09 Mar 2021

Wraps up in 6 Min

Read by 7.5k people

जैसा कि हम सभी जानते है कि परिवर्तन ही प्रकृति का नियम है। प्राचीन काल से लेकर आज तक हमारे रहन सहन, काम करने के तरीकों आदि में भारी बदलाव आया है तथा टेक्नोलॉजी की वजह से दुनिया लगातार बदल रही है। इसके कारण शेयर मार्किट में ट्रेडिंग करने तथा इन्वेस्टिंग करने के तरीकों में भी काफी बदलाव आया है।

मार्च 2020 के बाद से ही बड़ी संख्या में डीमैट अकाउंट खुलने लगे है तथा विशेष रूप से हमारे देश के युवा लोग इस क्षेत्र की और काफी आकर्षित हो रहे है लेकिन यहां पर ध्यान देने वाली बात यह है कि अभी भी बहुत सरे लोगों को शेयर मार्केट तथा इससे जुडी बहुत सारी बेसिक डिटेल्स का भी पता नहीं है।

तो आज के इस ब्लॉग में हम डीमैट अकाउंट तथा ट्रेडिंग अकाउंट के बारे में विस्तार से जानने की कोशिश करेंगे।

Demat Account क्या है ?

हम सभी बैंक अकाउंट के नाम तथा इसके उपयोग के बारे में परिचित है। हमारे बैंक अकाउंट में हम पैसे रख सकते है तथा निकाल सकते है तथा जमा भी करवा सकते है। एक डीमैट अकाउंट भी हमारे बैंक अकाउंट की तरह सिक्योरिटीज को इलेक्ट्रॉनिक रूप में होल्ड करने के काम आता है।

अगर आपके पास फिजिकल शेयर्स है तथा आप उनको इलेक्ट्रॉनिक फॉर्म में एक सुरक्षित जगह पर रखना चाहते है तो उस स्थिति में आप एक डीमैट अकाउंट खुलवाकर अपने शेयर्स को सुरक्षित रूप से इलेक्ट्रॉनिक फॉर्म में रख सकते है। इसके अलावा आप इस खाते में पैसे भी रख सकते है जिनकी मदद से आप शेयर्स खरीद सकते है। लेकिन यहां पर ध्यान देने वाली बात यह है कि आपको यहां पर बैंक अकाउंट की तरह किसी प्रकार के मिनिमम शेयर्स या पैसे रखने की जरूरत नहीं पड़ती। अगर आपके पास 0 शेयर्स है तो भी आपका डीमैट अकाउंट एक्टिव रह सकता है।

लेकिन इस अकाउंट की मदद से आप सिक्योरिटीज की खरीददारी तथा बिकवाली नहीं कर सकते अर्थात ट्रेडिंग नहीं कर सकते।

डीमैट अकाउंट के प्रकार -

हमने यह तो समझ लिया कि एक डीमैट अकाउंट क्या होता है तो आइये अब यह समझ लेते है कि ये कितने प्रकार के होते है तथा उनमें क्या  क्या फर्क होता है -

  1.  Regular Demat Account -

अगर आप एक सामान्य भारतीय नागरिक है तो यह अकाउंट आपके लिए एक आदर्श अकाउंट है जिसमे आप अपनी सिक्योरिटीज तथा इक्विटीज को होल्ड करके रख सकते हो तथा इसकी मदद से आप IPOs में भी इन्वेस्ट कर सकते हो।

लेकिन समस्या तब खड़ी होती है जब आप उन शेयर्स को बेचना चाहते है और उसके लिए आपको एक डीमैट अकाउंट की जरूरत पड़ेगी।

सेबी के नए नियम के अनुसार आपको 50 हजार रूपये से कम की होल्डिंग्स के लिए किसी भी प्रकार के Maintenance Charges देने की भी जररूत नहीं पड़ेगी।

2.  Repatriable Demat Account -

अगर आप एक NRI है तथा आप जिस देश में रहते है उस देश से भारत में फण्ड ट्रांसफर करना चाहते है तो ये अकाउंट आपके लिए ही बना है जिसमे आप एक साल में अधिकतम 1 मिलियन USD तक का फण्ड ट्रांसफर कर सकते है लेकिन इस प्रकार का डीमैट अकाउंट खुलवाने के लिए आपको एक NRE Bank Account की जरूरत पड़ेगी।

Non - Resident External या NRE अकाउंट एक बैंक अकाउंट है जो एक NRI द्वारा उसके वर्तमान देश से भारत में पैसे ट्रांसफर करने के काम आता है तथा यह अकाउंट रूपये के Denominations पर आधारित है।

3.  Non - Repatriable Demat Account -

यह अकाउंट भी उन लोगों के लिए है जो भारत से बाहर रहते है लेकिन Repatriable Account की तरह आप इसमें विदेश से हमारे देश में पैसे ट्रांसफर नहीं कर सकते। अगर आप इस प्रकार का अकाउंट खुलवाना चाहते है तो आपके पास एक NRO अकाउंट होना चाहिए।

अगर आप वर्तमान में विदेश में रह रहे है लेकिन आप जब भारत में थे तब आपने कुछ शेयर्स खरीदे थे तथा अब आप उन शेयर्स को होल्ड करना चाहते है तो यह अकाउंट आपके लिए बिल्कुल सही है।

Trading क्या है?

जैसे कि हमने पहले भी चर्चा की थी कि एक डीमैट अकाउंट में आप केवल सिक्योरिटीज को होल्ड करके रख सकते है लेकिन अगर आप इनकी खरीददारी तथा बिकवाली करना चाहते है तो इसके लिए आपके पास एक ट्रेडिंग अकाउंट होना चाहिए इसको भी हम निम्नलिखित प्रकारों में बाँट सकते है -

1.   Equity तथा Derivatives Trading Account

यह सबसे आम ट्रेडिंग अकाउंट है जिसकी मदद से आप Shares , Futures तथा Options में ट्रेड कर सकते है। ये सारे Transactions आप अपने घर से ही कर सकते हो या फिर अपने ब्रोकर को कॉल करके भी बता सकते हो तथा आपका ब्रोकर आपका ये काम कर देगा। आपके सभी अकाउंट T+1 Day के हिसाब से Execute हो जाएंगे।

अगर आप केवल Futures and Options में ही ट्रेड करते है तो आपको डीमैट अकाउंट की भी जरूरत नहीं पड़ती क्योंकि यह ट्रेड एक विशेष समय में ही ख़तम हो जाता है लेकिन स्टॉक्स के लिए आपको डीमैट अकाउंट की जरूरत पड़ सकती है।

2.   Commodity Trading Account

अगर आप Multi Commodity Exchange (MCX) में ट्रेड करना चाहते है तो आपको एक कमोडिटी ट्रेडिंग अकाउंट की जरूरत पड़ेगी इस अकाउंट को खुलवाने के बाद आप आसानी से कमोडिटी futures and Options में ट्रेड कर सकते है।

यहां पर भी transactions T+1 Day के आधार पर ही Execute होते है।

3.   Discount Trading Account

जो लोग भारी संख्या में स्टॉक्स का Transactions करते है तो इस प्रकार के अकाउंट में फीस काफी कम लगती है लेकिन ये किसी भी प्रकार की एडिशनल सर्विसेज प्रदान नहीं करते है लेकिन Call and Trade जैसी सर्विसेज का फायदा आप कुछ एक्स्ट्रा फीस देकर उठा सके है।

एक इन्वेस्टर के तौर पर आप उपरोक्त तीनों में से किसी भी प्रकार का अकाउंट खुलवा सकते हो। कई बैंक्स आपको 3-in-1 की भी सुविधा भी प्रदान करती है। जो भी ब्रोकिंग फर्म्स बैंकों से जुडी होती है उनमें आप इस प्रकार के अकाउंट का फायदा उठा सकते हो इसमें आपको बैंकिंग सर्विसेज के साथ-साथ ट्रेडिंग तथा डीमैट अकाउंट की सर्विसेज भी मिलती है।

डीमैट अकाउंट तथा ट्रेडिंग अकाउंट में अंतर :-

आधार

डीमैट अकाउंट

ट्रेडिंग अकाउंट

उपयोग

शेयर्स तथा सिक्योरिटीज को इलेक्ट्रॉनिक फॉर्म में स्टोर करने के लिए एक डीमैट अकाउंट की जरूरत पड़ती है

सिक्योरिटीज को खरीदने तथा बेचने के लिए एक ट्रेडिंग अकाउंट की जरूरत पड़ती है

पहचान

डीमैट अकाउंट खुलने के बाद इन्वेस्टर को एक यूनिक ID नंबर दिया जाएगा  

इसमें आपको अकाउंट खुलवाने के बाद एक ट्रेडिंग ID दी जाएगी

उद्देश्य  

शेयर्स की सुरक्षा के लिए         

शेयर्स तथा सिक्योरिटीज की खरीददारी तथा बिकवाली की प्रक्रिया को आसान बनाने के लिए


एक ट्रेडिंग तथा डीमैट अकाउंट कैसे खुलवाएं?

एक ट्रेडिंग तथा डीमैट अकाउंट खुलवाने के लिए आपकी उम्र 18 साल से ज्यादा होनी चाहिए या फिर आपको अभिभावकों की कानूनी परमिशन चाहिए होगी तथा उसके बाद आप शेयर्स तथा सिक्योरिटीज की खरीददारी तथा बिकवाली कर सकते है।

इसके अलावा आपको एक पैन कार्ड की जरूरत पड़ेगी तथा इन स्टेप्स को फॉलो करना होगा -

1      डीमैट अकाउंट खुलवाने के लिए आपको Depository Participant या DP से संपर्क करना होगा जिसके बारे में आप Central Depository Services या फिर National Securities Depository Limited से जानकारी प्राप्त कर सकते है। ट्रेडिंग अकाउंट खुलवाने के लिए आपको एक ब्रोकर या ब्रोकिंग फर्म से संपर्क करना होगा।

2     अपने एड्रेस प्रूफ, पैन कार्ड, ID प्रूफ आदि देने के बाद आपको एक KYC भरनी पड़ेगी।

3    डीमैट अकाउंट की स्थिति में आपको एक एग्रीमेंट साइन करना होगा। इसकी एक कॉपी अपने पास जरूर रखें।

4    ट्रेडिंग अकाउंट के लिए आपको एक वेरिफिकेशन प्रोसेस से गुजरना होगा।

5  थोड़े समय बाद आपके डीमैट अकाउंट तथा ट्रेडिंग अकाउंट खुल जाएंगे तथा आप उनका उपयोग कर सकते है।

निष्कर्ष -

हम आशा करते है कि इस आर्टिकल में लिखी गयी बातें आपके ट्रेडिंग तथा डीमैट अकाउंट से सम्बंधित सारे डाउट्स दूर कर देगी तथा आपको एक सही डीमैट तथा ट्रेडिंग अकाउंट खुलवाने में सहायता मिलेगी।

शेयर मार्किट एक ऐसी जगह है जहां आप अगर बिना नॉलेज काम करते है तो आपको नकारात्मक परिणाम मिल सकते है। इसलिए आपको हमेशा इसके बारे में कुछ नया सीखते रहना चाहिए।

धन्यवाद

comment on this article
share this article
Photo of Rishika Mukherjee

An Article By -

Rishika Mukherjee

220 Posts

15.4m Views

294 Post Likes

144

Mukherjee is an avid reader and loves to write as much as read. She is the youngest of all but handles chores like a 50-year-old woman. She takes a lot on her plate and somehow, eerily manages to get the job done. As Hazel Grace stated, she could read a good author's grocery list, and so would Miss Mukherjee. 

Topics under this Article

Share your thoughts

We showed you ours, now you show us yours (opinions 😉)

no comments on this article yet

Why not start a conversation?

Looks like nobody has said anything yet. Would you take this as an opportunity to start a discussion or a chat fight may be.

Under Stock Market

"A few" articles ain't enough! Explore more under this category.

close
Share this post
share on facebook

Facebook

share on twitter

Twitter

share on whatsapp

Whatsapp

share on linkedin

Linkedin

Or copy the link to this post -

https://insider.finology.in/stock-market/demat-and-trading-account-in-hindi

copy url to this post
Copied